कॉपर जल दबाव नियामक

कॉपर जल दबाव नियामक एक एसी चीस है जो पानी के दबाव को कम करता है, जिस से आप के घर में पानि से सम्ब्बंधित और कोई समस्या खड़ी ना हो। एक नियामक का काम दबाव को कम करके एक शुनिस्चित स्तर पर लाना होता है, जिस से आपके आपके घर में कोई प्रकार कइ पाइप लाइन टूटने की या और कोई पाने की समस्या खाड़ी ना हो।

नियामक तब काम आता है जब पानी का प्रेसरे अनियंत्रित होता है, और पानी का प्रेसरे अनियंत्रित कब होता है? – जब मुन्सिपलटी का पानी आपके घर में आता है। घर में पाइपलाइन पानी से सम्बंधित सभी उपकरण बनाए ही इतने मजबूत जाते हे की वह पानी के दबाव को जेल सके, अगर किसी कारन के चलते मुन्सिपलटी के पानी में दबाव बढ़ जाता है, तब प्रेसर से पाइपलाइन को या फिर अन्य साधन को नुकशान हो सकता है, और घर मे   पानी लिक हो सकता है।

अब २०२१ में जो भी मशीन आते है जेसेकी वाशिंग मशीन या अन्य कोई भी मशीन उसमे जयादातर प्रेसर नियामक लगे होते है।

नियामक में कोन सा मटिरियल का उपयोग किया जाता है ?

  • नियामक के अंदर जो स्प्रिंग का इस्तमाल होता है वह स्प्रिंग स्टेनलेस स्टील और कार्बन स्टील से बनाई जाती है।
  • नियामक को बनाने के लिए अलग अलग  चीच वास्तु का इस्तमाल किया जाता है, जैसे की एल्युमीनियम, प्लास्टिक और अन्य प्रकार की चीच वस्तुओ।

कब कब ब्रास, एल्युमीनियम, प्लास्टिक का इस्तमाल नियामक में होता है ?

  • ब्रास यानि पीतल सबसे जयादा प्रयोग में लियाजाने वाला और किफायती धातु है।
  • प्लास्टिक को तब याद किया जाता है जब वास्तु को कम लागत और थोड़े समय ही वस्तुको प्रयोग में लेना होता है।
  • और जब हमें वास्तु को मजबूत, कम लागत और लम्बेसमय तक इस्तमाल में लेनेहो तब हम अलुल्मिनियम का इस्तमाल करते है।

नियामक का तापमान

  • जो मटिरियल को नियामक में उस्त्मल किया जाना है उसे सिर्फ कोम्पेतेबले ही नहीं उसके फंक्शन के साथ अछेसे तप्मानको नियंत्रित करना आना चाहिए।
  • और जब ये मटिरियल अछेसे काम नहीं कर पाता तब ये सीधा बहाने वाली हवा को असर करता है।

नियामक कितने लम्बे समय तक चलता है ?

आम तोर से एक नियामक की अवधि सात से बारह साल की होती है।

आप नियामक को कैसे अछेसे लगा सकते है ?

अगर आपने अपने घर में पानी के दबाव को गोर से देखा है तो आपको पता होगा की पानी का प्रेसर फुवारे में कम या जयाद होता होगा, इस का एक ही करन है की आपके घर में नियामक ठीक से नहीं लगा है।

इस छोटीसी चीज के लिए आपको प्लम्बर को बुलाने की जरूरत नहीं है, आप इससे अपने आप ठीक कर सकते है।

अगर आपके पास सही सामान है तो आप ए आपने आप भी ठीक कर सकते है।

अगर आपको नही आता की कैसे नियामक को अछे तरीके से लगाये तो आईए में आपको स्टेप बी स्टेप सिखाता हु की नियामक को सही तरीके से कैसे लगते है।

स्टेप १ : सबसे पहेले चरण में आपको मुख्या लाइन यानिकी जहासे पानी आता है उसे ढूँढना है।

आपको मैं पाइपलाइन यानिकी जहासे आपके घर में पानी आता है उसे ढूंढने के बाद आपको पानी का मीटर दिखाई देगा।

स्टेप २ : दुसरे चरण में आपको वाल ढूँढना है ।

वाल एक एसी चीच है जो पीतल की बनी होती है और उसके बिच का हिस्सा घंटी के आकर जैसा होता है।

आपको मीटर मिलेने के बाद ए पीतल के वाल को ढूँढना है। और ए कार्य करते समय आपको एक बात ध्यान में रखनी है की पाइपलाइन में पर्याप्त मात्रामे प्रेसर हो।

अगर सब कुछ ठीक है तो फिर आये चल ते है अगले चरण की तरफ

स्टेप ३ : तीसरे चरण में आपको जो नुट बोल्ट आते है उसे ठीक से लगा ना है

इस चरण में आपको कुछ नहीं कर ना है बस आपको वाल और नुतबोल्ट ढूंढने के बाद आपकी जरुरत के मुताबिक एडजस्ट कर ना है।

अगर आप बोल्ट को अपनी राईट साइड खोमएंग तो बोल थोडा टाइट होगा जिससे प्रेसर बढेगा और जब आप बोल को आपके लेफ्ट साइड घुमाते है तो पानी का प्रेसर कम होता है।

यह प्रक्रिया करने के समय आपको बिलकुल भी घबराना नहीं है, जब भी आप थोडा बोल को कस ते है यानि की टाइट करते है। तब आपको चेक कर ना है की पानी का प्रेसर कम या फिर ज्याद तो नहीं हो गया।

पानी का प्रेसर मीडियम ही रखना चाहिए पैर आप पानी के प्रेसर को अपनी जरूरत के अनुसार कम या जयाद कर सकते है।

स्टेप ४ : चौथे चरण में आपको यह शुनिचित करना है की पानी का दबाव ठीक है या नहीं।

अगर पानी का दबाव आपने जैसे सेट किया था उसके मुताबिक है या नहीं।

अगर है तो आपको बस ये चेक कर ना है की कही लिक होरहा है या नहीं।

अगर लिक नहीं होरहा तो बधाई हो आप ने ठिकसे नियामक को लगाया है।

Leave a Comment